Tuesday, June 10, 2008

एक दीपक / Levende Lys



Kæmpe med besvær
Kompromiser med skyggerne
En lampes lys igennem natten.

Så ofte har regnen og stormen brudt sandheden
Tiden gav så mange rystelser
Håbets lys brød ikke
Tillidens bånd slipper ikke.

Sunket ned i sjælen,
Ubevidst dumpet ned i hengivelsens mantra
En lampes lys igennem natten.

Lyset signalerer, der svares ikke
Sandheden overvejes ikke imod løgnen
Stirrende på stjernerne uden fortabelse
Uden tårer af begær.

Dages, måneders og års ondskab
Udførende sin egen dont
Overkommende sejrens historie.


एक मित्र द्वारा किया गया डैनिश अनुवाद। शायद कोई
हिंदी जानने वाला पाठक डैनिश भी जानता हो
तो पता चलेगा कि अनुवाद का क्या मज़ा है...
सोचा वेब पर रख दूँ कहीं इधर उधर गुम न जाए

जूझ कर कठिनाइयों से
कर सुलह परछाइयों से
एक दीपक रातभर जलता रहा

लाख बारिश आँधियों ने सत्य तोड़े
वक्त ने कितने दिए पटके झिंझोड़े
रौशनी की आस पर
टूटी नहीं
आस्था की डोर भी
छूटी नहीं

आत्मा में डूब कर के
चेतना अभिभूत कर के
साधना के मंत्र को जपता रहा
एक दीपक रातभर जलता रहा

जगमगाहट ने बुलाया पर न बोला
झूठ से उसने कोई भी सच न तौला
वह सितारे देख कर
खोया नहीं
दूसरों के भाग्य पर
रोया नहीं

दिन महीने साल निर्मम
कर सतत अपना परिश्रम
विजय के इतिहास को रचता रहा
एक दीपक रातभर जलता रहा

4 comments:

अनिल कान्त : said...

मुझे आपकी रचना बहुत पसंद आयी

पूर्णिमा वर्मन said...

धन्यवाद अनिल जी।

UDAY PUNDHIR said...

deepak ki roshani har haal main roshan rahe.

mridula pradhan said...

very good.